September 25, 2017

अब मेरी भी सुनो-माता भजन

एक माता भजन सुनते हैं लखबीर सिंह लक्खा का गाया हुआ.
ये भजन आपने एक ना एक बार अवश्य ही सुना होगा.




गीत के बोल:

ब्रह्मा जी को आन छुड़ाया मधु कैटभ  के बल से
माँ ने रूप धर शिव को बचाया भस्मासुर के छल से
सब देवो पर हुई सहाई माँ दुष्टों के दल से
और भक्तो की है प्यास बुझाई चरण गंगा के जल से

अब मेरी भी सुनो हे मात भवानी
मै तेरा ही बालक हूँ जगत महारानी
अब मेरी भी सुनो हे मात भवानी
मै तेरा ही बालक हूँ जगत महारानी
अब मेरी भी सुनो

सिंह सवारी करने वाली तेरी शान निराली है
तू है शारदा तू ही लक्ष्मी तू ही महाकाली है
शुंभ-निशुम्भ पापी तूने संघारे महिषासुर के जैसे तुमने ही मारे
भक्तो के सारे संकट तुमने ही टारे मै भी हूँ आया मैया तेरे द्वारे
तेरा यश है उज्वल निर्मल ज्यूं गंगा का पानी

अब मेरी भी सुनो हे मात भवानी
मै तेरा ही बालक हूँ जगत महारानी
अब मेरी भी सुनो

ब्रह्मा विष्णु शंकर ने भी आद्यशक्ति को माना है
जय जगदम्बे जय जगदम्बे वेद पुराण बखाना है
शक्ति से ही सेवा होती शक्ति से ही मान है
शक्ति से ही विजयी होता हर इंसान है
शक्ति से ही भक्ति होती भक्ति मे कल्याण माँ
दे दो मुझे भी भक्ति गाऊँ गुणगान माँ
कैसे मै गुणगान करूँ माँ मै तो हूँ अज्ञानी

अब मेरी भी सुनो हे मात भवानी
मै तेरा ही बालक हूँ जगत महारानी
अब मेरी भी सुनो

कण कण मे है देखी सबने कैसे जोत समायी है
भीड़ पड़े जब भक्तो पे माँ दौड़ी दौड़ी आई है
मेरी पुकार सुन लो दरश दिखा दो
कर दो दया की दृष्टि गले से लगा लो
भक्तो का मैया तुमने भाग सवारा
आया शरण मे लक्खा एक दुखिआरा
कर दे देवकीनंदन पे ओ मैया मेहरबानी

अब मेरी भी सुनो हे मात भवानी
मै तेरा ही बालक हूँ जगत महारानी
अब मेरी भी सुनो हे मात भवानी
...................................................................
Ab meri bhi suno-Mata bhajan

Read more...

September 24, 2017

सुनो ओ शेरा वाली-एक फूल तीन कांटे १९९७

एक फ़िल्मी माता भजन सुनते हैं. ये है सन १९९७ की फिल्म
एक फूल तीन कांटे से. समीर के लिखे गीत की धुन तैयार की
है जतिन ललित ने. विनोद राठौड और कविता कृष्णमूर्ति ने
इसे गाया है.



गीत के बोल:

हाँ सुन ओ शेरावाली ज्योतावाली
दर से तेरे कोई जाए न खाली
बिगड़ी बनाती है तू
सबके काम आती है तू
हो सुन ओ शेरावाली ज्योतावाली
दर से तेरे कोई जाए न खाली
बिगड़ी बनाती है तू
सबके काम आती है तू
हो सुन ओ शेरावाली ज्योतावाली
दर से तेरे कोई जाए न खाली

तेरे मन में क्या है किसको पता
हो तेरे मन में क्या है किसको पता
कुछ होता नहीं तेरी मर्ज़ी बिना
हो हमने बस यही मांगी है दुआ
हमें सपनो का संसार दे
चाहे दिल जिसको वो प्यार दे

सुन ओ शेरावाली ज्योतावाली
दर से तेरे कोई जाए न खाली

कोई ढूंढें यहाँ कोई ढूंढें यहाँ
हाँ कोई ढूंढें यहाँ कोई ढूंढें यहाँ
ओ तेरी धरती गगन तेरे दोनों जहाँ
हो आये यहाँ हम तो ये सोच के
तू बना देगी अपना भी काम
तेरे चरणों में शत शत प्रणाम

हो ओ ओ सुन ओ शेरावाली ज्योतावाली
दर से तेरे कोई जाए न खाली
बिगड़ी बनाती है तू
सबके काम आती है तू

सुन ओ शेरावाली ज्योतावाली
दर से तेरे कोई जाए न खाली
………………………………………………….
Sun o sherawali-Ek phool teen kaante 1997

Read more...

September 23, 2017

ऐसा प्यार बहा दे मैया-माता भजन

नवरात्रि के शुभ अवसर पर अगला देवी भजन सुनिए. ये है
हरिओम शरण का गाया हुआ. काफी साल पहले एक भजन
एल्बम निकला था पुष्पांजलि जिसमें ये भजन शामिल है.



गीत के बोल:

या देवी सर्वभूतेषु दया-रूपेण संस्थिता
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः

दुर्गा दुर्गति दूर कर मंगल कर सब काज
मन मन्दिर उज्जवल करो कृपा कर के आज

ऐसा प्यार बहा दे मैया  चरणों से लग जाऊ मैं
सब अंधकार मिटा दे मैया  दरस तेरा कर पाऊं मैं
ऐसा प्यार बहा दे मैया

जग मैं आकर जग को मैया  अब तक न मैं पहचान सका
क्यों आया हूँ कहाँ है जाना  यह भी ना मै जान सका
तू है अगम अगोचर मैया  कहो कैसे लख पाऊं मैं

ऐसा प्यार बहा दे मैया

कर कृपा जगदम्बे भवानी  मैं बालक नादान हूँ
नहीं आराधन जप तप जानूं  मैं अवगुण की खान हूँ
दे ऐसा वरदान हे मैया  सुमिरन तेरा ग़ाऊ मैं

ऐसा प्यार बहा दे मैया

मै बालक तू माया मेरी  निष् दिन तेरी ओट है
तेरी कृपा से ही मिटेगी  भीतर जो भी खोट है
शरण लगा लो मुझ को मईया  तुज पे बलि बलि जाऊ मैं

ऐसा प्यार बहा दे मैया  चरणों से लग जाऊ मैं
सब अंधकार मिटा दे मैया  दरस तेरा कर पाऊं मैं
ऐसा प्यार बहा दे मैया
………………………………………………………
Aisa pyar baha de maiya-Mata Bhajan

Read more...

September 22, 2017

जीवदानी हो मैया-माता भजन

सपना अवस्थी का गाया एक माता भजन सुनते हैं.इसके बोल
प्रदीप सिन्हा के हैं और संगीत भी उन्हीं का है.



भजन के बोल:

बोल लिखने में मदद अपेक्षित है.

.............................................................
Jeevdani ho maiya-Mata bhajan

Read more...

September 21, 2017

तूने मुझे बुलाया शेरा वालिये-आशा १९८०

नवरात्रि के शुब अवसर पर सुनते हैं फिल्म आशा से देवी भजन.
इसे नरेन्द्र चंचल और रफ़ी ने गाया है.

आनंद बक्षी के बोल हैं और लक्ष्मी प्यारे का संगीत.




गीत के बोल:

साँची जोतों वाली माता
तेरी जयजयकार
तूने मुझे बुलाया शेरा वालिये
मैं आया  मैं आया शेरा वालिये
ओ जोताँ वालिये पहाड़ा वालिये
ओ मेहराँ वालिये
ओ तूने मुझे बुलाया शेरा वालिये
मैं आया  मैं आया शेरा वालिये

सारा जग है एक बंजारा
सारा जग है एक बंजारा
सबकी मंज़िल तेरा द्वारा
ऊँचे पर्वत लम्बा रस्ता
ऊँचे पर्वत लम्बा रस्ता
पर मैं रह न पाया शेरा वालिये
तूने मुझे बुलाया शेरा वालिये
मैं आया  मैं आया शेरा वालिये

सूने मन में जल गई बाती
तेरे पथ में मिल गए साथी
तेरे पथ में मिल गए साथी
मुँह खोलूँ क्या तुझसे माँगूँ
मुँह खोलूँ क्या तुझसे माँगूँ
बिन माँगे सब पाया शेरा वालिये
तूने मुझे बुलाया शेरा वालिये
मैं आया  मैं आया शेरा वालिये

कौन है राजा कौन भिखारी
कौन है राजा कौन भिखारी
एक बराबर तेरे सारे पुजारी
एक बराबर तेरे सारे पुजारी
तूने सबको दर्शन दे के
तूने सबको दर्शन दे के
अपने गले लगाया शेरा वालिये
तूने मुझे बुलाया शेरा वालिये
मैं आया  मैं आया शेरा वालिये

ओ प्रेम से बोलो
जय माता दी
ओ सारे बोलो
जय माता दी
ओ आते बोलो
जय माता दी
ओ जाते बोलो
जय माता दी
ओ कष्ट निवारे
जय माता दी
ओ पार उतारे
जय माता दी
ऐसी माँ भोली
जय माता दी
भर दे झोली
जय माता दी
ओ तेरे दर पर
जय माता दी
माँ देगी दर्शन
जय माता दी
ओ जय माता दी
जय माता दी
पहाड़ाँ वाली की जय
वैष्णो देवी की जय
अम्बे रानी की जय
........................................................................
Toone mujhe bulaya sherawaliye-Asha 1980

Artists: Jeetendra

Read more...

September 20, 2017

चाँद मेरा दिल चाँदनी हो तुम-हम किसी से कम नहीं १९७७

फिल्म हम किसी से कम नहीं में काफ़ी सारे गीत हैं. २-३ गीत मिला
के कुछ बनाया गया था जिसे जनता कोम्पिटीशन या मेडले जैसा कुछ
कहती है. उसी का एक हिस्सा है रफ़ी का ये गीत.

आज सुनते है इसे जिसे मजरूह ने लिखा है और आर डी बर्मन ने
संगीत से संवारा. पाठक सोचते होंगे ये संवारा, सजाया इत्यादि शब्द
बारम्बार क्यूँ आते हैं पोस्ट में. इसका जवाब ये है जब आप रेडियो
पर किसी कार्यक्रम में इन्हें बार बार सुन कर बोर नहीं होते है तो
यहाँ भी नहीं होना चाहिए.



गीत के बोल:

चाँद मेरा दिल  चाँदनी हो तुम
चाँद से है दूर  चाँदनी कहाँ
लौट के आना  है यहीं तुमको
जा रहे हो तुम  जाओ मेरी जां

वैसे तो हर क़दम  मिलेंगे लोग सनम
मिलेगा सच्चा प्यार मुश्किल से
दिल की दोस्ती  खेल नहीं कोई
दिल से दिल है मिलता यार मुश्किल से
यही तो है सनम  प्यार का ठिकाना
मैं हूँ  मैं हूँ  मैं हूँ
चाँद मेरा दिल  चाँदनी हो तुम
चाँद से है दूर  चाँदनी कहाँ
…………………………………………………
Chand mera dil-Hum kisi se kam nahin 1977

Artist: Tariq

Read more...

September 19, 2017

अरे दीवानों मुझे पहचानो-डॉन १९७८

सन १९७८ की महानायक अभिनीत चर्चित फिल्म से एक गीत
सुनते हैं. ये फिल्म का शीर्षक गीत भी है. अनजान का लिखा
गीत है जिसे किशोर कुमार ने गाया है कल्याणजी आनंदजी की
धुन पर.

७० के दशक का उत्तरार्ध अमिताभ के नाम कहा जा सकता है.
इस दौर में उनकी कई बड़ी हिट फ़िल्में आयीं और इन फिल्मों
के कई हिट गीत भी जनता ने सुने. इनमें से अधिकांश गाने
किशोर की आवाज़ में ही हैं. ये बात तकरीबन उन सभी फिल्मों
पर लागू होती है जिनमें कल्याणजी आनंदजी या आर डी बर्मन
का संगीत है.




गीत के बोल:

अरे दीवानों मुझे पहचानों कहाँ से आया मैं हूँ कौन
अरे दीवानों मुझे पहचानों कहाँ से आया मैं हूँ कौन
मैं हूँ कौन मैं हूँ कौन
मैं हूँ मैं हूँ मैं हूँ मैं हूँ कौन
डॉन डॉन डॉन डॉन डॉन
मैं हूँ मैं हूँ मैं हूँ मैं हूँ डॉन

अरे तुमने जो देखा है सोचा है समझा है जाना है
वो मैं नहीं वो मैं नहीं
लोगों की नज़रों ने मुझको यहाँ जो भी माना है
वो मैं नहीं वो मैं नहीं
आवारा बादल को सौदाई पागाल को दुनिया में समझा है कौन
अरे दीवानों मुझे पहचानों कहाँ से आया मैं हूँ कौन

अरे यारों का वो यार हूँ यारी में जाँ लुटा दे जो
मैं हूँ वही मैं हूँ वही
दुश्मन का दुश्मन हूँ वो दुश्मन के छक्के छुड़ा दे जो
मैं हूँ वही मैं हूँ वही
तुम जानो ना जानो मैने तो जाना है महफ़िल में कैसा है कौन
अरे दीवानों मुझे पहचानों कहाँ से आया मैं हूँ कौन

अरे मैने क्या सोचा है क्या ख़्वाब है मेरी आँखों में
तुम जानो ना तुम जानो ना
मैने भी बदला है क्या रंग बातों ही बातों में
तुम जानो ना तुम जानो ना
चेहरे पे चेहरा है परदे पे परदा है दुनिया में समझा है कौन
अरे दीवानों मुझे पहचानों कहाँ से आया मैं हूँ कौन
........................................................................
Are deewano mujhe pehchano-Don 1978

Artists: Amitabh Bachchan

Read more...
© Geetsangeet 2009-2017. Powered by Blogger

Back to TOP